Saturday, March 18, 2017

छोड़ो भी

जब हम में था क़रार, मिलती थी हफ्ते एक बार
अब  जो कुछ भी न रहा, अब क्यों रोज़ आती हो?

अब तो फ़िराक को भी गए हो चली हैं मुददतें
ये कोई सलात तो नहीं जो सुभ-ओ-शाम गाती हो !

शब भर मुस्कुरा के कहती हो माफ़ किया छोड़ो भी
आँख खुलते ही मगर पल में चली जाती हो।

No comments:

Post a Comment